Google Adsense Account Fast Approved कैसे करें

Google Adsense से Fast Approval कैसे ले (2020)

क्या आप अपने ब्लॉग के लिए google adsense पर कम समय में approval लेना चाहते हैं? अगर हा तो इस आर्टिकल को लास्ट तक पढना जिससे आपको हर एक बात ठीक से समझ आये और आप approval लेने मे कामयाब हो सके।

यहां पर मैं आपको अपनी personal method बताने वाला हूँ, जिससे मैं हर बार अपना adsense approval अपनी साइट पर ले लेता हूँ फिर चाहे वो .com डोमेन, .net या फिर .in डोमेन हों।

इस trick को अगर आप फ़ॉलो करेंगे तो आपको एडसेंस का अप्रूवल 100% मिल जायेगा और यदी आपने पहले ही 2-3 बार try किया हैं, पर किसी कारण apply करने पर आपको कोई Error दिखा रहा हैं, जैसे No valuable Inventory Provide या फिर Scrapped content या फिर और कोई और एरर जिससे कि आपको गूगल एडसेंस का अप्रूवल नहीं मिल रहा, तो उसके पीछे का कारण भी मैं बताऊंगा की कैसे आपको उन्हें Resolve करना है.

यहां पर मैंने जो Steps शेयर किये हैं उन्हें आप ठीक से फॉलो करोगे तो आप within 24 hour मेे अपनी साइट को गूगल पर Index करवा सकते हैं और उसकी मदद से आप 24 hour के अंदर ही Adsense का अप्रूवल भी ले सकते हैं।

आप में से बहुत सारे लोगों को यही query रहती है कि हम कितने दिनों से ब्लॉग पर अच्छे आर्टिकल्स लिख रहे है और आर्टिकल की लेंथ भी अच्छी खासी है पर फिर भी adsense का approval नहीं मिल रहा। या फिर कोई Error जाती है अप्लाई करने के टाइम पे, गूगल मना कर देता आपकी साइट को, या फिर आपके साइट के जो Ads हैं वो लिमिट हो जाती है। तो ये सारी की सारी queries इस article में मैंने कवर की हैं ताकि इसे पढ़ने के बाद आपको कोई और प्रॉब्लम ना आये।

Google Adsense से Fast Approval कैसे ले (2020)

Google Adsense से Fast Approval कैसे ले

यहां पर मैंने जितने भी स्टेप्स बताये हैं उनको आपको नोट डाउन करने की जरूरत नहीं है, आप बस इसे ध्यान से पढ़ो। या फिर आप पढ़ने के बाद इस पेज को बुकमार्क कर लो जिससे नेक्स्ट टाइम पेज को सर्च ना करना पड़े।

लास्ट में मैंने एक चेकलिस्ट (Summary) भी दी है, जिसे अगर चाहो तो आप notedown कर सकते हैं, बस जब भी आप ब्लॉग बनाओ और आर्टिकल लिखो तो एक एक स्टेप्स को tick कर देना जो आपने cover की है। अगर आप इस चेकलिस्ट के सारे स्टेप्स को कवर कर लोगे तो मैं आपको गारन्टी के साथ कहता हूँ की आपको 100% adsense का approval मिल जाएगा वोह भी एक दिन में.

1. Niche को चुनना  

यहां पर हमारा जो पहला स्टेप हमारा होगा वो हैं, Niche या टॉपिक को चुनना।

ब्लॉग के लिए सही टॉपिक को चुनना बहोत ही जरुरी है। क्यों की बाद मे ऐसा नहीं होना चाहिए की आप ऐसे टॉपिक को चुनो जिससे आपकी शुरुवात तो अच्छी हो लेकिन कुछ दिनों बाद आपको उस Niche मे लिखने के लिए कुछ भी ना मिले। इसलिए टॉपिक को decide करते थोड़ा रिसर्च करे जिससे आपको बाद में पछताना ना पड़े.

इसे भी पढ़े-

अब यहाँ पर आपका कोई भी डोमेन हो सकता है, .net, .com या फिर .in और चाहे वो ऑनलाइन earning के रिलेटेड हो, ब्लॉगिंग से रिलेटेड हो या फिर education के रिलेटेड या फिर किसी भी दूसरे टॉपिक पर जिस पर आप ब्लॉग बनाना चाहते हैं. बस इतना ध्यान रखे की जिस Niche को भी आप चुनोगे वो टॉपिक-

  • एडसेंस फ्रैंडली हो
  • एडसेंस की पॉलिसीज को violate ना करें जैसे वोह कोई डाउनलोड करने वाले कंटेंट से रिलेटेड नहीं होना चाहिए.
  • आप किसी कॉपीराइट को भी Infringed ना करें जैसे, किसी और के content को मॉडिफाई करके आप अपने ब्लॉग post मे लिख रहे हैं, या फिर spinner टूल्स का इस्तेमाल करके आर्टिकल्स को rewrite कर रहे हैं.

अगर आप वैसी साइट बनाएंगे तो उस पे आपको अप्रूवल कभी भी नहीं मिल पायेगा क्यों की यह adsense के policies के खिलाफ होता हैं और शायद आपको पता ना हो लेकिन गूगल हमेशा ही अपने privacy पॉलिसी को लेकर स्ट्रिक्ट रहा हैं. इसलिए आप ऐसी कोई भी चीज ना करें जो adsense की पॉलिसी को violate करें.

आप में से बहुत से लोगो की ये भी query रहती है की मैं ब्लॉगर के साइट में वेबसाइट बनाऊ या फिर वर्डप्रेस में बनाऊ, जिससे adsense का अप्रूवल जल्दी मिल जाए।

पर्सनली मैंने बहोत बार ब्लॉगर पर भी adsense का approval लिया है, तो इस में कोई डिफरेंस नहीं है जो डिफरेंस है वोह यह है के आप किस टॉपिक पर ब्लॉग पोस्ट लिख रहे हैं. लेकिन फिर भी यदि आपका टॉपिक strong हैं तो इससे कोई फर्क नहीं पड़ेगा की आप कौनसा platform यूज कर रहे हैं.

पर किसी कारण आपका बजट कम है तो आप ब्लॉगर पर शुरू करके फिर वर्डप्रेस प्लॅटफॉर्म पर वेबसाइट को माइग्रेट कर सकते हैं इससे आपकी रैंकिंग पर कोई भी प्रभाव नहीं पड़ेगा।

2. Custom Domain  

हमारे पास एक कस्टम डोमेन भी होना चाहिए और यह डोमेन low authority डोमेन नहीं होना चाहिए। लेकिन फ्री .tk या फिर blogspot.com पर भी एडसेंस अप्रूवल मिल जाता है लेकिन उसके लिए आपको इस ट्रिक की तुलना में थोड़ा wait करना पड़ेगा।

यहां पर मैं आपको रिकमेंड करूँगा के आप कोई भी High Authority वाला डोमेन खरीदने की कोशिश करे, यह native डोमेन से थोड़ा महंगा पड़ेगा पर इसे आपको ट्रैफिक gain करने मे काफी ज्यादा फायदा होगा और approval मिलने में भी आसानी होगी।

यहां पर मैंने कुछ मोस्ट popular डोमेन extensions की लिस्ट दी है, तो आप उन मे से कोई एक डोमेन को अपने ब्लॉग के लिए चुन सकते हैं-

Most Popular Domain Extensions

  1. .com (Commercial) – Business / eCommerce
  2. .org (Organisations) – Non-profits / Forums / Resources
  3. .net (Network) – Internet Provider / Services / Technology
  4. .co (Colombia Country Code) – TLD / Company / Corporation
  5. .us (United States) – Country Code TLD
  6. .info (Information about a concept)- business/idea

Country-code top-level domains (ccTLD)

  1. .in (India)
  2. .us (United States)
  3. .eu (European Union)
  4. .de (Germany)
  5. .ca (Canada)
  6. .hk (Hong Kong)

अगर आप किसी स्पेसिफिक country के लिए ट्रैफिक को सर्व कर रहे हैं तो आप country code का भी इस्तेमाल कर सकते हैं.

उदाहरण के लिए discoverinhindi ब्लॉग पर मैं सिर्फ हिंदी आर्टिकल्स लिखता हूँ, तो जाहिर सी बात है की 90% के ऊपर की ट्रैफिक इंडिया से ही आयेगी। तो इस केस में आप .in का इस्तेमाल कर सकते हैं.

लेकिन इससे ज्यादा फर्क नहीं पड़ेगा अगर आपका ब्लॉग रैंक पर है तो. पर फिर भी आपके आर्टिकल के language की हिसाब से अगर आप डोमेन extension को choose करोगे तो आपके लिए बेहतर हो सकता है.

3. Website की theme

अब अपने वेबसाइट की लिए Niche और उसके लिए प्लेटफार्म चुनने के बाद सबसे इम्पोर्टेन्ट चीज है, वोह है SEO Adsense friendly थीम को इनस्टॉल करना।

आपने कभी सर्च करते वक्त गूगल के सर्च रिजल्ट पर देखा ही होगा की वहा पर SEO ready, AdSense फ्रेंडली थीम को recommend किया जाता है जिनमे SEO optimized कोड रहता है जो आपके ब्लॉग पोस्ट को आसानी से इंडेक्स कर गूगल सर्च पर दिखाता है।

मैंने इसे Important इस लिए कहा क्यों की हम अच्छा आर्टिकल लिखने के बाद बिना एडसेंस फ्रेंडली थीम को choose किये बिना ही ब्लॉग को ads के लीये अप्लाई करते है और ये जो प्रोसेस होती है उस मे यदि गूगल को आपके pages या फिर पोस्ट्स एडसेंस फ्रेंडली नहीं लग रहे हैं, तो गूगल आपके एप्लीकेशन को रिजेक्ट कर देता है.

इसका अर्थ यह है की अगर आपने कोई ऐसी थीम choose की हो, जिस पर पढ़ने वाले को ये भी नहीं समझ में आ रहा हैं की वोह पढ़ क्या रहा है और इसके आलावा आपने बहोत ही fancy कलर का इस्तेमाल किया है जिससे पढ़ने वालो को परेशानी हो सकती है तो इस केस में गूगल एड्स के लिए अप्रूवल नहीं देता है.

गूगल चाहता है की आप हर एक छोटी छोटी चीज को ठीक से करे जिससे users को पढ़ने में दिक्कत ना आये और जब कभी Ads चालू होगी तो वो आसानी से पढ़ने वाले की नजर में आये. तो इसे ही हम ब्लॉगिंग टर्म में adsense फ्रेंडली कहते है।

यदि आप वर्डप्रेस का इस्तेमाल कर रहे हैं तो मैं कुछ प्रीमियम थीम्स को suggest करूंगा जिसका आप इस्तेमाल अपने वेबसाइट में कर सकते हैं-

WordPress AdSense Friendly Themes

  • Newspaper Premium theme
  • Genesis Framework
  • Divi themes
  • Astra (Free WordPress theme)
  • Ocean WP
  • Avada themes

Blogger AdSense Friendly Themes (Free)

  • Simplify theme
  • One Press theme
  • Goyabi SEO ready templates
  • Mag one premium theme (paid)
  • Elice Responsive theme
  • News Plus

ऊपर मैंने फीचर्स के हिसाब से आपको पॉपुलर थीम्स के नाम suggest किये है, आप इन मे से किसी एक थीम को वेबसाइट के लिए choose कर सकते हैं.

4. Write high-quality articles 

Niche और थीम चुनने के बाद हमे कुछ high quality आर्टिकल्स लिखने है जो की सभी के सभी unique होने चाहिए और ख़ासकर आपके Niche के रिलेटेड होने चाहिए।

इसके अलावा लिखते वक्त यह भी ध्यान मे रखे की वो कही से भी कॉपी किये ना हो. क्यों की कही लोगो को मैंने देखा है जो थोड़ा लिखने के बाद किसी वेबसाइट पर जाकर उनके कंटेंट को कॉपी करके पोस्ट में डाल देते है और उन्हें लगता है की इससे किसी को क्या पता चलेगा।

तो भाई ऐसा नहीं है यह ऑनलाइन का जमाना है और गूगल भी किसी ब्लॉग के आर्टिकल को manually review नहीं करता हैं। इनके पास strong algorithms (सॉफ्टवेयर) होते है जिन पर हमारे वेबसाइट की सारी जानकारी होती है. इनसे उन्हें आर्टिकल के यूनिक होने का पता चलता है।

और यही वोह रीज़न है जिसकी वजह से आपको No valuable Inventry का मैसेज एडसेंस अप्लाई करने के बाद उनकी तरफ से आता है. तो अगर आप चाहते हैं की आपको एडसेंस अप्रूवल जल्दी मिले तो उसे resolve करने के लिए आपको यूनिक और हाई क्वालिटी आर्टिकल लिखने ही होंगे नहीं तो आपको approval लेने मे काफ़ी उठानी पड़ सकती हैं.

5. Article Length 

उदाहरण के लिए अगर मोबाइल्स रिव्यूज का आपका कोई ब्लॉग है तो आप उसमें 30 मोबाइल्स के जो रिव्यूज हैं वो डाल दो और हर एक आर्टिकल की length 1000 वर्ड्स से ज्यादा होनी चाहिए और हर एक मोबाइल रिव्यु जो आप कर रहे हैं वो किसी unique मोबाइल पर होना चाहिए क्यों की इससे आपको अप्रूवल मिलने के चान्सेस काफी बढ़ जायेंगे।

यहां मैंने सिर्फ उदाहरण के लिए आपको बताया है की minimum length 1000 words होनी चाहिए और आर्टिकल यूनिक होने चाहिए। लेकिन आप इससे ज्यादा भी लिख सकते हैं, क्यों की यह आपके हार्ड वर्क के ऊपर डिपेंड रहेगा की आप कितना ज्यादा potential ब्लॉग पर लगा रहे हैं।

आर्टिकल की length चेक करने के लिए आप word counter टूल का इस्तेमाल करे, जिससे की आप आर्टिकल  लिखने के बाद उसकी लेंथ को चेक कर सके।

आर्टिकल की लेंथ का जो नंबर है वो vary करता है, क्यों की कही लोगों को पांच आर्टिकल में भी AdSense approval मिल जाता है, कही लोगो को 10 पे भी मिलता और कईयों को 60 आर्टिकल्स लिखने के बाद भी नहीं मिलता। तो इस बात को ध्यान में रखे की आर्टिकल को लम्बा लिखे जिससे लोग उसमे engage रहे और आपको अप्रूवल भी जल्दी मिले।

6. Number of articles 

जैसा की मैंने कहा, अगर आप average 30 आर्टिकल भी unique लिखते हैं और उसकी लेंथ को maintain रखते है तो 95% चान्सेस है की आपको एडसेंस का अप्रूवल वो मिल ही जाएगा।

इसलिए आर्टिकल को कही से कॉपी पेस्ट ना करे जो भी आपके दिमाग में आता उसको लिख दे कोई SEO नहीं कोई कुछ नहीं और एक अच्छा सा टाइटल भी आर्टिकल को दे और फिर Adsense के लिए अप्लाई कर दे।

SEO सिर्फ पेज को रैंक करने के लिए होता है इससे आपके गूगल एडसेंस अप्रूवल से कोई लेना देना नहीं है इस बात को हमेशा ध्यान में रखे।

7. Important Pages  

आर्टिकल add करने के बाद हमारा नेक्स्ट step आता है कुछ जरुरी पेजेस बनाने का और इन पेजेस को आपको Adsense के लिए apply करने से पहले any how add करना ही होगा-

  • About us
  • Contact us
  • Disclaimer
  • Privacy policy etc. (Include child privacy policy as well)

Disclaimer की इतनी जरूरत नहीं है, वोह अगर नहीं भी होगा तो भी अप्रूवल मिल जाता है लेकिन बाकि के पेजेस adsense के लिए mandatory हैं उन्हें फूटर मे या कही भी add जरूर करे.

8. Traffic Requirement  

एक और जो query है वोह बहोत सारे लोगों को रहती है के मेरी साइट में ट्राफिक नहीं आ रहा तो मैं adsense के लिए अप्लाई करू या नहीं?

यदि आपने एडसेंस की पॉलिसीज को पढ़ा हैं तो वहां पर ऐसी कोई भी requirement adsense द्वारा नहीं बताई गयी है.

आपके वेबसाइट में अगर zero ट्रैफिक रहेगा तो भी आपको अप्रूवल मिल जाता है ।

लेकिन अगर आपकी साइट पर कुछ ट्रैफिक आ रहा हैं जैसे, 50 या फिर 100 visit a day तो आपकी adsense अप्रूवल मिलने की जो probability है वो बढ़ जाती है और आपको approval भी बहुत जल्दी मिलता है।

यहां चिंता की कोई बात नहीं हैं अगर आपकी साइट पर ट्रैफिक नहीं है तब भी आपको एड्रेस अप्रूवल मिल जाएगा लेकिन थोड़ा सा टाइम लग सकता है, दो दिन ज्यादा लग जाएंगे पर यदि सब सही रहा तो आपको approval तो मिल ही जाएगा।

Adsense approval के लिए अप्लाई करने से पहले इस बात को ध्यान में रखे की ट्रैफिक organic होना चाहिए, यानि की किसी भी spam website से या फिर कही और से redirected नहीं होना चाहिए।

यदि आप फेसबुक सेक्शन में कमेंट पर लिंक शेयर करके ट्रैफिक को प्राप्त कर रहे हैं तो इसे अभी छोड़ दे क्यों की गूगल ऐसी किसी भी चीज को रिकमेंड नहीं करता है और उसे voilation या paid ट्रैफिक कह कर अप्रूवल को रिजेक्ट कर देता है। इसलिए approval मिलने से पहले ऐसी किसी भी चीज को ना करे जो गूगल की ट्राफिक पॉलिसी को voilate करे.

9. Language Support  

यदि आप किसी ऐसे गांव से हैं, या देश के किसी ऐसे जगह से हैं जहाँ पर बाकि लोगो से अलग भाषा बोली जाती है और आप उस पर्टिकुलर language में ब्लॉग बनाना चाहते हैं तो गूगल इसे approve नहीं करेगा अगर वोह AdSense सपोर्ट laguange नहीं हैं तो।

इसलिए ऐसा ब्लॉग बनाने से पहले गूगल पर Adsense support languages लिख कर सर्च करे जिससे आपको उन सभी languages की लिस्ट मिल जाएगी जिन्हे एडसेन्स सपोर्ट करता है।

यदि किसी कारण आपकी भाषा उस लिस्ट मे नहीं हैं तो वहा से आप कोई भी सेकेंडरी language को अपने ब्लॉग के लिए चुन सकते हैं।

10. Bonus Trick 

यह most Important trick हैं जो कि पर्सनली मैने निकाली है जिससे कि मैं अपनी साइट्स को within 24 hour में इंडेक्स करवा लेता हूँ और फिर गूगल पर ऐड के apply करता देता हूँ।

सबसे पहले आपको अपनी साइट को गूगल webmaster tool (सर्च कंसोल) पर add करना है और add करने के साथ साथ आपके जो पेजेस हैं जो main पेजेस है, जैसे policy पेज से लेकर about us, contact us पेज को आपको मैनुअली इन्डेक्स करवाना है। अगर आपको नहीं पता की कैसे ब्लॉग को सर्च कंसोल में सबमिट करते है तो आप निचे की लिंक को फॉलो कर सकते है-

यहा पर अब अपना लिंक देके इंडेक्स करवाने से क्या होता है की आपकी साइट के यह पेजेस 10 – 15 मिनट के अंदर गूगल पर इन्डेक्स कर जाते है और वो सारे के सारे लिंक्स गूगल पर आ जाते हैं और इसके कारन गूगल को भी पता चलता है इस वेबसाइट की इंटरनल कोड में कोई भी एरर नहीं है और वह बिलकुल adsense फ्रेंडली ही है, इससे आपके approval मिलने के चांसेज काफ़ी ज्यादा बढ़ जाते हैं।

इस techniques को यूज करके मैं अपनी साइट को within 10 मिनट के अंदर इंडेक्स करवा लेता हूं और जैसे ही मेरी साइट की issues फिक्स हो जाती हैं तो उसके बाद मैं एडसेंस के प्रोफाइल के लिए अप्लाई कर देता हूँ और मुझे हंड्रेड परसेंट अशोरिटी के साथ Adsense approval मिल जाता है।

अगर आप इन सभी स्टेप्स को वन बाय वन फॉलो करोगे और इसी way में फॉलो करोगे जैसे मैंने बताया है तो आपको adsense का approval मिलने में कोई परेशानी नहीं होगी।

लेकिन इसमें भी कुछ केसेस में अगर आपकी किस्मत बुरी रही तो शायद आपको आडियंस का अप्रूवल ना मिले। क्यों की फस्ट बार अप्लाई करने पर ऐसा मेरे साथ भी ऐसा कही बार हो चूका है लेकिन मैं website को सेकंड टाइम रीअप्लाई कर देता हूं बिना कुछ भी एडिट करेंं और पता नहीं क्यों पर approval accept हो जाता हैं.

लेकिन मैं आपको रिकमेंड करूँगा की यदि किसी कारण आपका अप्रूवल reject हो गया हैं तो आप 4-5 New यूनिक आर्टिकल्स लिखें, उसकी लेंथ को 1000 वर्ड से ज्यादा रखे और उन्हें अपनी साइट पर पोस्ट करके उन्हें भी manually Index करवाये जैसा की मैंने ऊपर कहा था, और फिर adsense approval के लिए री अप्लाई कर दे।

Adsense approval लेना यानी नामुमकिन बात नहीं हैं क्यों की गूगल भी यही चाहता हैं ज्यादा से ज्यादा लोग ads के लिए अप्लाई करें और अप्रूवल लेने मे कामयाब हो सके. लेकिन आप यदि आप बार बार policies को violate कर रहे हैं या content कही से कॉपी करके आर्टिकल मे डाल रहे हैं तो उनको मजबूरन advertisers friendly content ना होने के कारण आपके एप्लीकेशन को reject करना पड़ता हैं.

आपके क्या सीखा 

यहां पर मैं ऊपर दिए सभी पॉइंट्स की फिरसे summary दे दे रहा हूँ जिससे की आपको यह अच्छी तरह से याद हो जाए और आप approval लेते समय कोई भी गलती ना करे-

  1. सबसे पहले आपको एक Topic decide करना है जिस पर आप लम्बे समय तक अच्छे quality आर्टिकल लिख सकते हैं।
  2. उसके बाद एक टॉप लेवल डोमेन खरीदना है जो के आपके निचे या Topic पर depend हैं।
  3. डोमेन खरीदने के बाद किसी एक AdSense Friendly theme को इनस्टॉल करके आपको सेटअप कर लेना है।
  4. फिर आपको average 30 high quality user readable आर्टिकल्स लिखने है जो की सब के सब यूनिक sub-topic पर होने चाहिए।
  5. आर्टिकल लिखते वक्त यह भी ध्यान मे रखे की हर एक आर्टिकल की लेंथ 1000 वर्ड्स से ज्यादा होनी चाहिए, चाहे उस पर लिखने जैसा कुछ भी ना हो।
  6. यहां पर आपको कुछ इम्पोर्टेन्ट पेजेस ऐड करने है और उसे गूगल सर्च कंसोल पर manually इंडेक्स करना है।
  7. इसके लिए कोई भी ट्रैफिक requirement नहीं है तो बिना सोच विचार किये ऊपर के सभी स्टेप्स को फॉलो करने के बाद एडसेन्स के लिए आप अप्लाई कर सकते हैं.

जब भी आप किसी साइट में adsense का approval लेना चाहें तो आप ऊपर की summary को दिमाग में रख के उसके पॉइंट्स को वन बाय वन फॉलो करे ताकि आप किसी भी स्टेप को मिस ना कर दे अप्रूवल लेने में कामयाब हो सके।

अगर आपको इसके बाद भी कोई भी Adsense approval लेने मे दिक्कत आ रही हैं, तो कमेंट सेक्शन मुझे जरूर बताइये जिससे की मैं आपको पर्सनली इसमें हेल्प कर सकूँ.

यदी आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे और अगर आप सोशल मीडिया से जुड़े हुए हैं तो वहां पर भी लोगो को इस आर्टिकल के बारे मे बताये जिससे उन्हें भी adsense से approval लेने में परेशानी ना उठानी पड़े.

2 COMMENTS

  1. Thank you…🙏🙏🙏
    Me kafi dinose aisi jankari ke talash me tha…
    Aapne bohot achhese jankari di hai 👍🔥
    Aapka dhanyawad 🙏🙏🙏

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here