JavaScript Kya Hai – What is JavaScript in Hindi | पूरी जानकारी

What is Javascript in Hindi

JavaScript Kya Hai – What is JavaScript in Hindi। आज आप जो भी वेबसाइट इंटरनेट पर देखते है उन सब में JavaScript का इस्तेमाल किया जाता है. काफी सारे लोगो को इसका सिर्फ नाम ही पता है लेकिन JavaScript क्या है, क्यों यूज होती है, कैसे यूज होती है और इसका इस्तेमाल कैसे किया जाता है इसके बारे में नहीं पता होता।

यदि आप किसी वेबसाइट को ब्राउज़र पर ओपन करते है और अगर वो ब्राउज़र JavaScript को सपोर्ट नहीं करता है तो आपकी वेबसाइट लोड होने में दिक्कत आनी शुरू होती है जिसके वजह से आपको ब्राउज़र द्वारा JavaScript को इनेबल करने के लिए कहा जाता है.

यही नहीं बल्कि ये एक ऐसी लैंग्वेज है जिसके बिना कोई भी वेबसाइट अधूरी होती है.

HTML और CSS के बारे में हमने पिछले आर्टिकल में पढ़ा की उन वेब languages को यूज करके आप वेबसाइट बना सकते है, लेकिन सिर्फ वेबसाइट बनाकर डिज़ाइन कर सकते है जिसपर जानकारी प्रोवाइड की जाती है, जैसे कोई ब्लॉग या टुटोरिअल वेबसाइट।

लेकिन किसी भी वेबसाइट के लिए सिर्फ यही काफी नहीं होता। उसे interactive बनाने के लिए उसमे javascript का होना आवश्यक होता है.

उदाहरण के लिए-

  • आपको किसी जानकारी को hide या show करना है.
  • वेबसाइट में राइट क्लिक डिसएबल करना है
  • वेबसाइट में पॉपअप लगाना है
  • ऑटोमेटिकली बदलती हुयी इमेजेस
  • बटन पर एरो ले जाने पर उसकी साइज काम-ज्यादा होना
  • लॉगिन और रजिस्ट्रेशन forms
  • किसी भी तरह का एनीमेशन, टाइमर, क्लॉक, ऑडियो, वीडियो वेबसाइट पर दिखाना

कुछ कॉमन websites-

  • Blogger.com
  • Gmail
  • Paypal
  • ऑनलाइन इमेज Compression, resize, crop websites
  •  Logo maker websites
  • SEO keywords checker, analysis websites like, ahrefs, moz
  • Google सर्च इंजन algorithm

ऐसी लाखो websites जहाँपर इस programming language का इस्तेमाल किया जाता है. मैं यहाँ हर एक वेबसाइट का उदाहरण देकर आपको नहीं बता सकता क्यों की ऑलमोस्ट सभी websites में JavaScript को यूज करना ही पड़ता है.

एक रिसर्च के अनुसार around 95.2% (1.52 billion) websites में JavaScript का इस्तेमाल किया गया है.

What is Javascript in Hindi

JavaScript kya hai

JavaScript एक फेमस सबसे ज्यादा यूज की जाने वाली Scripting or Web Programming language है. इसे  client side scripting language भी कहा जाता है, क्यों की इसका सोर्स कोड वेब सर्वर के बजाय क्लाइंट के वेब ब्राउजर द्वारा प्रोसेस किया जाता है।

वेबसाइट को ओपन करते वक्त JavaScript, सर्वर के साथ किसी भी तरह का communication नहीं करती है। इसका अर्थ ये है की JavaScript तभी काम करती है जब आपकी वेबसाइट पूरी तरह से लोड होके ब्राउज़र पर ओपन हो जाती है.

उदाहरण के लिए लॉगिन या registration फॉर्म को ही ले लीजिये। क्यों की क्या आपने यहां कभी भी बिना डिटेल्स भरे ही रजिस्ट्रेशन बटन पर क्लिक करके रजिस्ट्रेशन किया है? जब भी आप किसी फील्ड को blank रखते है तो वो फ्रॉम आपको उस फील्ड में जानकारी डालने के लिए कहता है, और उसके बाद ही आप रजिस्ट्रेशन कर पाते है.

login form
Gmail example

Client-Side vs Server-side JavaScript

JavaScript को क्लाइंट साइड पर यूज करने के अलावा इसका उपयोग सर्वर साइड पर भी किया जाता है.

Client-Side Server-side
यूजर के ब्राउज़र पर या कंप्यूटर पर रन होती है यह वेब सर्वर पर रन होती है, जैसे apache, php my admin
source code ब्राउज़र में विज़िबल होता है source code यूजर को विज़िबल नहीं होता है  क्यों की यहां HTML कोड को सर्वर साइड से फेच किया जाता है
यूजर वेलिडेशन और वेबसाइट के फंक्शनलिटी के लिए यूज किया जाता है यह बिज़नेस लॉगिन या डेटाबेस से डाटा को एक्सेस करने के लिए यूज किया जाता है
यह ब्राउज़र और उनके वर्जन पर डिपेंड होता है यहां क्लाइंट साइड का कोई भी रोल नहीं होता है क्यों की यह पूरी तरह से सर्वर साइड से एक्सेस किया जाता है.

JavaScript का इस्तेमाल कैसे किया जाता है

यह एक scripting programming language है जो कभी भी अकेली काम नहीं करती है। जैसे बिना चाय पत्ती के चाय नहीं बन सकती ठीक उसी तरह बिना HTML के आप इस language का इस्तेमाल नहीं कर सकते।

इसलिए किसी भी डेवलपर को या वेबसाइट बनाने वाले को सबसे पहले HTML और CSS के बारे में जानकारी होना आवश्यक होता है.

जरूर पढ़े-

बाकि स्क्रिप्टिंग लैंग्वेज जैसे PHP और ASP की तरह आप JavaScript का कोड HTML के वेब पेज में कही भी इन्सर्ट कर सकते है.

JavaScript को आप इस तरह से समझ सकते है-

HTML– जो वेब पेजेस के कंटेंट को दर्शाता है.

CSS– जिससे HTML के वेबपेजेस डिज़ाइन किये जाते है

JavaScript– जो उन websites के behaviour या व्यवहार को दिखता है. मतलब की यूजर के इनपुट देने पर जावास्क्रिप्ट उन्हें ठीक उसी इनपुट पर रिप्लाई देता है. फॉर एक्साम्प्ल लॉगिन फॉर्म।

यह काम कैसे करता है

जब भी कोई विजिटर इंटरनेट पर किसी वेबसाइट को ओपन करता है तब उसकी request browser के पास जाती है और ब्राउज़र वेबसाइट के सर्वर पर उसे चेक करके या validate करके फिरसे उस रिक्वेस्ट का आउटपुट यूजर के पास भेज देता है जिससे वेबसाइट लोड हो जाती है.

अब ऐसा जब होता है तब कंप्यूटर सर्वर या ब्राउज़र HTML वेबपेज के request के साथ JavaScript कोड को भी attach करके ब्राउज़र के पास भेज देता है, जिससे ब्राउज़र उसके साइड पर javascript को चेक करता है और यदि वह ब्राउज़र पर इनेबल होता है तभी वो वेबसाइट को लोड कर पता है.

मलतब की जो भी JavaScript के functions होंगे वो तभी वर्क कर पाएंगे जब ब्राउज़र को इसे एक्सेस करने की अनुमति यूजर द्वारा दी गयी हो.

JavaScript को Chrome Browser पर Enable कैसे करे

Step 1: Computer में क्रोम ब्राउजर ओपन करने के बाद ऊपर के दाएं तरफ मौजूद ” ⁝ “ बटन पर क्लिक करके Settings वाले ऑप्शन को लिस्ट में से चुनकर उसपर क्लिक करे.

Step 2: साइडबार मेनू से Privacy and security ऑप्शन पर क्लिक करके “Site settings” बटन पर क्लिक करे.

Step 3: अब Content सेक्शन में जाकर “JavaScript” पर क्लिक करें

Step 4: इसके बाद Allowed (recommended) बटन को ऑन कर दें जिससे क्रोम ब्राउजर में जावास्क्रिप्ट एनेबल हो जाएगी. (follow screenshot)

enable javascript on chrome

Simple JavaScript Example

जैसा की मैंने कहा इसे आप HTML के पेज में कही भी इन्सर्ट कर सकते है. इसलिए लिए आपको बस <script> Your code</script> tags के अंदर कोड लिखना होता है.

Example: Popup alert

<script>
function myPopup() {
alert("I am an alert box!");
}
</script>

ऊपर दिए कोड को आप head tag या body tag दोनों के अंदर इन्सर्ट कर सकते है.

यहां मैंने एक function लिखा है और उसे myPopup() नाम या id दिया है.

ठीक वही id मैंने HTML के पेज में एक <button> create करके उसे दिया है, जिससे बटन पर क्लिक करने से ये JavaScript function कॉल होगा और आपको स्क्रीन पर अलर्ट box दिखाई देगा।

Complete Popup alert code

<!DOCTYPE html>
<html>
<body>

<h2>JavaScript Alert</h2>

<button onclick="myFunction()">Try it</button>

<script>
function myPopup() {
alert("I am an alert box!");
}
</script>

</body>
</html>

Run this code>

जावास्क्रिप्ट का इतिहास 

JavaScript प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को Brendan Eich नामक व्यक्ति ने सिर्फ 10 दिन में Netscape Navigator search engine प्रोजेक्ट के लिए बनाया था और शायद आपको पता ना हो लेकिन गूगल के आने से पहले Netscape Naviagator 1990 के दशक का सबसे पॉपुलर सर्च इंजन था.

Netscape को दुनिया भर में पॉपुलर करने के बाद इसी कंपनी के साथ मिलकर Mitchell Baker और JavaScript founder Brendan Eich ने Mozilla firefox का अविष्कार भी किया, जिसे हम अभी भी गूगल पर सर्फिंग करने के लिए यूज करते है.

JavaScript को फर्स्ट नाम Mocha दिया गया था, उसके बाद Livescript और finally अब हम इसे JavaScript नाम से जानते है.

Most Commonly Asked Questions 

JavaScript को कैसे डाउनलोड करे?

Ans- इसे आप कहिसे डाउनलोड नहीं कर सकते क्यों की यह एक स्क्रिप्ट कोड होता है जो आपको खुद लिखना पड़ता है. मतलब की आप जैसी चाहे वैसी JS script बना सकते है. आपको जो भी JavaScript का इंटरनेट पर कोड मिलता है उसे लोगो ने खुद बनाया होता है जैसे Bootstrap.

क्या JavaScript फ्री है?

Ans: JavaScript एक ओपन source फ्री प्रोजेक्ट है. आप उसे जहा चाहे जैसे चाहे यूज कर सकते है.

JavaScript को कंप्यूटर या मोबाइल पर इनेबल कैसे करे?

Ans: इसे आपको इनेबल करने की कोई जरूरत नहीं होती क्यों की यह computer, laptop, tablet में already enabled ही होता है.

क्या Java or JavaScript Same है? 

Ans: Java और JavaScript दोनों अलग अलग है. इसे हम विस्तार से समझते है

Java और JavaScript में क्या अंतर है

काफी सारे लोगो को शुरुवात में confusion रहता है की क्या Java और JavaScript एक ही हिस्से के दो पेहलु है, तो यहाँ मैं आपको बता दूँ की दोनों languages में कुछ भी समानता नहीं है, ये बिलकुल ही इंडिपेंडेंट है और उनके काम भी अलग अलग है.

Java JavaScript
इस language को रन करने के लिए compiler की जरूरत होती है JavaScript को हम कही भी कभी रन कर सकते है, और इसके लिए किसी भी तरह के सॉफ्टवेयर की जरूरत नहीं होती
mainly back-end के लिए यूज की जाती है mainly front-end के लिए यूज की जाती है
Core business लॉजिक के लिए यूज की जाती है UI और core business लॉजिक दोनों के लिए यूज की जाती है
इसके syntax JavaScript से अलग होते है जावास्क्रिप्ट के syntax या कोड Java से अलग होता है
इसे रन करने के लिए ज्यादा memory की जरूरत होती ही यह Java से काफी ज्यादा लाइटवेट है, इसलिए कम मेमोरी में भी यह रन करती है

1 COMMENT

  1. Excellent read, I just passed this onto a colleague who was doing some research on that. And he actually bought me lunch since I found it for him smile Thus let me rephrase that: Thank you for lunch!For SEO analyze I prefer Semrush.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here